Shri Hanuman Chalisa with Hindi Meaning PDF Download

हनुमान चालीसा (Shri Hanuman Chalisa with Hindi Meaning PDF Download) हिंदू धर्म में हनुमान जी का एक भजन और काव्य रचना है जो भक्ति, साहस और धार्मिकता के प्रतीक भगवान हनुमान की दिव्य महिमा और गुणों को समाहित करती है।

Shri Hanuman Chalisa with Hindi Meaning PDF Download + हनुमान चालीसा पीडीएफ हिंदी

कवि तुलसीदास द्वारा लिखित, हनुमान चालीसा हैं। इसमें प्रत्येक चौपाई और दोहा को विस्तार से संरचित किया गया है। जो विशेष काव्य का एक रूप है।

About Shri Hanuman Chalisa with Hindi Meaning PDF Download

Hanuman Chalisa की उत्पत्ति और श्रद्धा:

संत-कवि तुलसीदास को समर्पित हनुमान चालीसा की रचना अवधी भाषा में हुई थी, जो कि हिंदी की एक बोली है। तुलसीदास ने इस भक्ति भजन को स्वयं भगवान हनुमान के दिव्य विचार के तहत लिखा था।

Shri Hanuman Chalisa with Hindi Meaning PDF Download

Shri Hanuman Chalisa का संरचना और सार:

हनुमान चालीसा एक संरचित प्रारूप का अनुसरण करती है, जिसमें प्रत्येक श्लोक भगवान हनुमान के गुणों, कारनामों और दिव्य अभिव्यक्तियों का गुणगान करता है। उनकी असाधारण ऊर्जा और वीरता से लेकर भगवान राम के प्रति उनकी अटूट भक्ति तक प्रत्येक श्लोक गहन धार्मिक महत्व रखता है।

हनुमान चालीसा में भगवान हनुमान के पवित्र नाम अंतर्निहित हैं, उनमें परिवर्तनकारी शक्ति और सुरक्षात्मक बिजली है। भक्त गहरी श्रद्धा के साथ इन मंत्रों का जाप करते हैं, बाधाओं पर विजय पाने, नकारात्मकता को दूर करने और धार्मिक मुक्ति पाने के लिए भगवान हनुमान के लाभों का आह्वान करते हैं।

Shri Hanuman Chalisa with Hindi Meaning PDF Download
PDF Name: Shree Hanuman Chalisa PDF Download
No. of Pages: 11
PDF Size: 291 KB
PDF Category: Religion & Spirituality
Source / Credits: https://notespdfdownload.com/
Notes PDF Download

Hanuman Chalisa का भक्ति अभ्यास:

हनुमान चालीसा का पाठ भगवान हनुमान के भक्तों के बीच एक प्रिय भक्ति अभ्यास है। चाहे किसी के धार्मिक सामान्य हिस्से के रूप में दैनिक रूप से पढ़ा जाए या किसी शुभ कार्य में, हनुमान जयंती या मंगलवार को, भगवान हनुमान से संबंधित दिन, यह पवित्र भजन प्रिय देवता की कृपा और आशीर्वाद का आह्वान करने करता है।

भक्त अक्सर सामूहिक रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करने के लिए मंदिरों, घरों में एकत्रित होते हैं। हनुमान चालीसा का जप दैवीय शक्ति से भरपूर वातावरण बनाता है, एकजुटता, भक्ति और धार्मिक उत्थान की भावना को बढ़ावा देता है।

Shri Hanuman Chalisa with Hindi Meaning PDF Download

Shri Hanuman Chalisa का आध्यात्मिक महत्व:

अपने भक्ति उत्साह से परे, हनुमान चालीसा आत्म-ध्यान की दिशा में साधकों के लिए गहरा आध्यात्मिक महत्व रखता है। इसके पाठ और चिंतन के माध्यम से, भक्त विनम्रता, साहस और अटूट विश्वास के साथ-साथ भगवान हनुमान की दिव्य विशेषताओं को आत्मसात करना चाहते हैं।

Shri Hanuman Chalisa with Hindi Meaning PDF Download

Shree Hanuman Chalisa PDF Download

Notes PDF Download

हनुमान चालीसा दैवीय कृपा और शक्ति के अवतार भगवान हनुमान के प्रति असीम भक्ति और श्रद्धा का एक कालातीत प्रमाण है। अपने उत्कृष्ट छंदों और गहन शिक्षाओं के साथ, यह पवित्र भजन सैकड़ों हजारों लोगों को धार्मिकता, करुणा और आध्यात्मिक ज्ञान की दिशा में चलने के लिए प्रेरित करता है।

 

|| दोहा ||

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निजमन मुकुरु सुधारि।
बरनउं रघुबर बिमल जसु, जो दायक फल चारि।।

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।
बल बुधि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।।

|| चौपाई ||

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर। जय कपीस तिहुं लोक उजागर।।
राम दूत अतुलित बल धामा। अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।।

महाबीर बिक्रम बजरंगी। कुमति निवार सुमति के संगी।।
कंचन बरन बिराज सुबेसा। कानन कुण्डल कुँचित केसा।।

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजे। कांधे मूंज जनेउ साजे।।
शंकर सुवन केसरी नंदन। तेज प्रताप महा जग वंदन।।

बिद्यावान गुनी अति चातुर। राम काज करिबे को आतुर।।
प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया। राम लखन सीता मन बसिया।।

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा। बिकट रूप धरि लंक जरावा।।
भीम रूप धरि असुर संहारे। रामचन्द्र के काज संवारे।।

लाय सजीवन लखन जियाये। श्री रघुबीर हरषि उर लाये।।
रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई। तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।।

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं। अस कहि श्रीपति कण्ठ लगावैं।।
सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा। नारद सारद सहित अहीसा।।

जम कुबेर दिगपाल जहां ते। कबि कोबिद कहि सके कहां ते।।
तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा। राम मिलाय राज पद दीन्हा।।

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना। लंकेश्वर भए सब जग जाना।।
जुग सहस्र जोजन पर भानु। लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं। जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।।
दुर्गम काज जगत के जेते। सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।

राम दुआरे तुम रखवारे। होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।
सब सुख लहै तुम्हारी सरना। तुम रच्छक काहू को डर ना।।

आपन तेज सम्हारो आपै। तीनों लोक हांक तें कांपै।।
भूत पिसाच निकट नहिं आवै। महाबीर जब नाम सुनावै।।

नासै रोग हरे सब पीरा। जपत निरन्तर हनुमत बीरा।।
संकट तें हनुमान छुड़ावै। मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।।

सब पर राम तपस्वी राजा। तिन के काज सकल तुम साजा।।
और मनोरथ जो कोई लावै। सोई अमित जीवन फल पावै।।

चारों जुग परताप तुम्हारा। है परसिद्ध जगत उजियारा।।
साधु संत के तुम रखवारे।। असुर निकन्दन राम दुलारे।।

अष्टसिद्धि नौ निधि के दाता। अस बर दीन जानकी माता।।
राम रसायन तुम्हरे पासा। सदा रहो रघुपति के दासा।।

तुह्मरे भजन राम को पावै। जनम जनम के दुख बिसरावै।।
अंत काल रघुबर पुर जाई। जहां जन्म हरिभक्त कहाई।।

और देवता चित्त न धरई। हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।।
सङ्कट कटै मिटै सब पीरा। जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।

जय जय जय हनुमान गोसाईं। कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।।
जो सत बार पाठ कर कोई। छूटहि बन्दि महा सुख होई।।

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा। होय सिद्धि साखी गौरीसा।।
तुलसीदास सदा हरि चेरा। कीजै नाथ हृदय महं डेरा।।

|| दोहा ||
पवनतनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।।

FAQ—

हनुमान चालीसा क्या है?

हनुमान चालीसा भगवान हनुमान को समर्पित एक भक्ति भजन है। और इसे संत तुलसीदास ने अवधी भाषा में लिखा है।

भगवान हनुमान कौन हैं?

भगवान हनुमान हिंदू पौराणिक कथाओं में एक केंद्रीय व्यक्ति हैं और भगवान राम के समर्पित शिष्य हैं। वह अपनी शक्ति, भक्ति और वफादारी के लिए पूजनीय हैं।

हनुमान चालीसा की रचना कब हुई थी?

हनुमान चालीसा की रचना तुलसीदास दास जी ने 16वीं शताब्दी में की थी।

हनुमान चालीसा का पाठ करने का क्या महत्व है?

हनुमान चालीसा का पाठ करने से भगवान हनुमान की कृपा प्राप्त होती है। इसे शुभ माना जाता है और अक्सर सुरक्षा, साहस और बाधाओं पर काबू पाने के लिए इसका पाठ किया जाता है।

हनुमान चालीसा का पाठ करने में कितना समय लगता है?

हनुमान चालीसा का पाठ करने में लगने वाला समय व्यक्ति की गति के आधार पर अलग-अलग होता है।

क्या कोई हनुमान चालीसा का पाठ कर सकता है?

कोई भी व्यक्ति हनुमान चालीसा का पाठ कर सकता है, चाहे उसकी उम्र, लिंग कुछ भी हो, यह सभी धर्मों के लोगों के लिए खुला है।

क्या हनुमान चालीसा का पाठ करने का कोई विशेष समय है?

हनुमान चालीसा का पाठ किसी भी समय किया जा सकता है, लेकिन इसका पाठ अक्सर मंगलवार और शनिवार को किया जाता है, जो भगवान हनुमान के लिए शुभ माना जाता है।

हनुमान चालीसा का पाठ करने से क्या लाभ होते हैं?

हनुमान चालीसा का पाठ करने से सुरक्षा, साहस और कठिनाइयों से राहत मिल सकती है। ऐसा भी कहा जाता है कि यह नकारात्मकता को दूर करता है और आध्यात्मिक कल्याण को बढ़ावा देता है।

क्या हनुमान चालीसा का पाठ किसी भी भाषा में किया जा सकता है?

हनुमान चालीसा का पाठ किसी भी भाषा में किया जा सकता है, लेकिन मूल पाठ अवधी में है। विभिन्न भाषाओं में कई अनुवाद उपलब्ध हैं।

क्या हनुमान चालीसा का पाठ करने का कोई विशेष तरीका है?

भक्ति और एकाग्रता के साथ हनुमान चालीसा का पाठ करने की सलाह दी जाती है। कुछ लोग इसे नहाने के बाद या स्वच्छ वातावरण में करने का भी सुझाव देते हैं।

FAQ ....

Leave a Comment